Dimapur lynching case: Nagaland govt report claims no rape

NEW DELHI(TNN): The Union home ministry received report from Nagaland government claiming that the deceased, Syed Sarif Khan, did not rape sexual assault survivor and that the sex between him and the victim was consensual. THE controversy over the alleged rape of a woman in Dimapur that led to the lynching of the accused by a mob has taken a dramatic turn with the Nagaland government informing the Centre that it “appeared to be a case of consensual sex”.

The state government, citing feedback from the accused Syed Arif Khan’s interrogation, has told the Union Home Ministry in a report that “Khan did not rape the woman”. However, the report adds that investigations are still on into the woman’s complaint and that the police were awaiting forensic reports.

The government report, while narrating the sequence of events in the case, points out that Khan told police after his arrest on February 24, a day after the alleged rape, that he had paid Rs 5,000 to the woman after they had “consensual sex” twice.

“The state government has sent two reports on the case so far. Even in the first report, they did not conclusively say that it was a case of rape. They said that though they had registered a case, they had sent the exhibits to Central Forensic Laboratory in Guwahati for expert opinion,” a senior Home Ministry official said.

“In the second report, they have quoted Khan’s interrogation report and said it appeared to be a case of consensual sex,” the official added.

According to the latest report, Khan told police that the woman allegedly demanded more money from him, which he refused. He alleged it was then that she complained to police about having been raped, the report says.

Khan was in police custody for a day before he was sent to Dimapur Central Jail. On March 5, a mob broke into the jail, dragged him out and beat him to death.

The accused paid Rs 5000 to the victim after two sexual encounters, the report says. The report says this conclusion is based on the statement of the deceased before he was lynched.

On March 5, a mob had stormed Dimapur Central Jail, dragged out rape accused Syed Sarif alias Farid Khan, paraded him naked and lynched him. Earlier in the day, reacting to the incident, a division bench of the Gawhati high court on Tuesday issued notices to the Centre and the Nagaland government, and directed them to file a detailed report within two weeks. It directed the state government and Nagaland IG (prisons) to ensure adequate security of prisoners.

The court’s direction came following a PIL filed by one Rajeev Kalita who sought the transfer of the case to the CBI and compensation for the family of the man who was lynched.

Source: TOI

दीमापुर केस: नागालैंड सरकार की रिपोर्ट में रेप की बात से इनकार

दीमापुर रेप मामले में जिस मेडिकल रिपोर्ट का इंतजार केंद्र के साथ खुद नागालैंड सरकार को था, वह आखि‍रकार आ गई. लेकिन इस रिपोर्ट ने जो सनसनीखेज खुलासा किया है, वह चौंकाने वाला है और प्रशासन से लेकर मानवता की बखि‍या उधेड़ देता है. क्योंकि रिपोर्ट की मानें तो लड़की के साथ रेप हुआ ही नहीं था बल्कि‍ यह लड़का और लड़की दोनों की समहति से स्थापित शारीरिक संबंध था.

यानी रेप के आरोपी की सरेआम हत्या और बीते कुछ दिनों से इस बाबत मचा हडकंप इन सब पर एक नए सिरे से बहस की शुरुआत हो गई है. नागालैंड सरकार ने दीमापुर रेप मामले में केंद्रीय गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेज दी है. इसमें साफ लिखा है कि आरोपी सैयद शरीफ खान के खिलाफ रेप के आरोप गलत हैं, क्योंकि मामला आपसी सहमति से संबंध बनाने का है.

गौरतलब है कि इस मामले में खान और रेप की कथित पीड़िता की मेडिकल जांच की गई. इस पूरे मामले में दुखद मोड़ तब आया जब आरोपी की भीड़ ने जेल से निकालकर हत्या कर दी थी. कथित पीड़िता और आरोपी खान से लिए गए फोरेंसिक साक्ष्यों को गुवाहाटी स्थित केंद्रीय फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला भेजा गया है ताकि विशेषज्ञों की राय मिल सके.

नागालैंड सरकार के मुताबिक, होटल डी ओरिएंटल ड्रीम की भी जांच की गई, जहां पीड़िता के बयान के मुताबिक आरोपी उसे ले गया था. इस होटल के सीसीटीवी फुटेज और जरूरी दस्तावेज भी लिए गए हैं. इसके मुताबिक खान की मदद में कथित तौर पर शामिल युवक को भी गिरफ्तार किया गया था और उसे खान के साथ दीमापुर केंद्रीय कारागार भेजा गया था.

बहरहाल, दिलचस्प तथ्य यह भी है कि जब भीड़ ने बीते पांच मार्च को खान को जेल से बाहर निकाला तो नागा युवक को नहीं छुआ. नागालैंड सरकार ने बताया कि इस पूरी घटना में 63 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं और पुलिस के 13 वाहनों को भी नुकसान पहुंचा. 35 नागरिक घायल हुए जिनमें से एक की मौत हो गई.

बता दें कि हत्या के इस मामले में असम के विभिन्न हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हुआ. राजनीतिक गलियारों से लेकर संसद तक का माहौल इस हत्या के कारण गर्म रहा. पुलिस ने कहा कि इस घटना की मोबाइल वीडियो क्लिपिंग के आधार पर गिरफ्तारियां की. करीमगंज समेत असम के विभिन्न हिस्सों में पीटकर की गई हत्या के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की खबरें भी आईं.

Source: Aajtak