Police hypocrisy on Muslim Youths and Media’s Role

Forbesganj,26 March-2014,Faizan Tabrazee: Do you remember the case of Mohd Hanif from Australia? Makkah Masjid blast case victim Imran, the  Hyderabadi Muslim Boy who was implicated on false terror charges in Makkah Masjid Blast case.   Nearly 8 to 10 years back Australian Government arrested Mohd Hanif an educated man at the airport in the crime of terrorism.

Police hypocrisy on Muslim Youths and Media’s Role

Police hypocrisy on Muslim Youths and Media's Role

Police hypocrisy on Muslim Youths and Media’s Role(Image credit: Wikipedia)

Government said that they had sufficient evidence against Hanif and this news was spread all over the world through media. But Mohd Hanif handled these cases exactly like an educated person and in few days he was acquitted from this case respectfully. After that Media showed this case all over the world and criticized the Australian Government. Where Imran is also acquitted by the court.

Video of Hyderabadi Muslim Boy Imran & his false implication of terror charges

Video credit: CNN IBN

This video can watch at Facebook at https://www.facebook.com/photo.php?v=10202779225075115

Overall the thing is that for being Muslims we all are getting punished. Now the time has come that we must prove that we are true and good Muslim people.

1. We can face these situations against us completely like educated people, just like Sikh brothers after the riots came up and at the same time won others people’s faith.

2. We need to become such a nice and faithful persons that no one can blame us, that means we have win others faith just like our Sikh brothers have won. In case, we if find any person who is wrong in our community we need to take initiative to get him punished through court and boycott him from the society.

3. Try to make an educated society, don’t do any unlawful act.

If someone is oppressing you, with full respect of law fight a case against him, but don’t take the law into your own hands.

4. If media is writing something wrong and presenting in front of the society, then you start your own media and present the truth to the society.

5. If police, army, lawyer, judge are from our common people then there won’t be any need for you to beg for justice and protection from others.

6. The people whom you’re electing for judiciary or for the parliament you make them work make sure that they come forward, work and give respect to the society, see that they give their contribution in the education field and provide protection to the people.

7. You act on Quran and the Mohammed Prophet’s teaching which says “You’re stunning people who always think of others and are born to benefit other people, you are a person who order good things and stop bad things to happen”.

8. Action speaks louder than words. Do it and show that Muslims means humanity, love, brotherhood, justice and patience.

9. Best religion in world is Islam and the best are their followers. Islam is the best religion everyone is aware of this fact and there is no doubt in this, but people look at them with suspicion, because here Muslims are some where responsible as they have strayed away from the actual route.

10. Correct your mistakes. Now a days the biggest mistake is that we don’t look at our faults instead always try to point others mistakes.

As a journalist cum Humanitarian main stream media influence fire such cases 

Since yesterday I’m constantly in anger and till now my anger is not cooled down. And Why shouldn’t I get angry as there were four pillars of India, but now the fourth one has gone and is being ignored.
Police hypocrisy on Muslim Youths and Media's Role

Image credit: Facebook
Don’t be angry media persons………….just look at careful and concentrate and read, the sold out media is trying to make us angry.

The population of the country is 125 crores. In these 125 crores of population you look at the classification. Among this, 80 percent of the Rihai people are working in the agricultural sector. Remaining 14 percent are in the farms and rest useless. 7 percentages are breaking the pens (students). A few of them are in politics in that profession also they are enjoying they life. Lastly we can count those few of them who are in industrial sector. So now we ask you who larger quantity is. Whose has to be in the news with the priority? Then these people have to be entitled, Right? But here media is reverse, either they completely ignore this 80 percent people or they oppose them.

I’ll share with you an incident:

We asked media – which media or news paper has complete information or bureau regarding the agricultural sector? Which news media has the department who gathers completely information regarding this 80 percent population? How many news portals are there who concentrate on the difficulties of these sectors? There was no answer and this is true………

Every media has news related to crime, death, music and other entertainment programs. There are different departments maintained to concentrate on political issues. Even there is a special section called page 3 which covers cinema, drinks and parties. But they don’t have any department or section for agricultural sector.

These media people have shocking news regarding the suicide cases of farmers, because it is considered as the part of political issues. So now tell me who rules the Media sector! Yes, only those categories of people who can be counted on fingers who are well known and are very rich.

Now just look at the news of this time. When elections on head and on the other hand farmers are facing a great disaster after the rain has ruined the fields. But his is not the news of the sold out media. Instead they concentration is “run away, inflation has come, entire media rallied on inflation” As evidence pictures of potatoes, onions, bringals and Mirchi are shown. That means the agricultural products has become costly.

Among this the print media is playing a crucial role by drawing the pictures with colorful vegetables and they huge increased prices in the columns. They show potatoes as eight rupees kg as the market price, but ignore the point that how much the framers are getting from this amount? They don’t have any objection on the price of potato chips which is being sold as hundred rupees kg. The price of Kurkure which is made of rice is above four hundred rupees because it is shown that Rani Mukharjee likes to eat it. Fifty six kilo weighted iron’s rate is eighty thousand rupees in the form of a bike. The first page of news paper is highlighted with the news of bikes and they information.

But media never discussed seriously about the inflation? What is the relationship between the farm and the industries; this is never asked by any political party? Friends we are in a democratic regime, we don’t hate any one. But it is also true that we also have the right to express our feelings.

Editor’s Note: Faizan Tabrazee is a journalist by profession and humanitarian. This article bears views and notions from his own. These views and notion do not bear the view of publication.

Original article here >>

क्या आपको ऑस्ट्रेलिया के मुहम्मद हनीफ का केस याद है ????
अब से लगभग ८ या १० साल पहले ऑस्ट्रिलिया सरकार ने मुहम्मद हनीफ नाम के एक पढ़े लिखे आदमी को आतंकवाद के अपराध में एयर पोर्ट से गिरफ्तार किया था
सरकार का कहना था कि हनीफ के खिलाफ पर्याप्त सबूत है
और यह खबर पूरी दुनिया के मीडिया में खूब आयी थी |
लेकिन मुहम्मद हनीफ ने बिलकुल एक पढ़े लिखे की तरह इस केस को हेंडल किया और केस लड़ा गया कुछ दिनों बाद मुहम्माद हनीफ बा इज्ज़त बरी हो गये |
उसके बाद पूरी दुनिया में मीडिया ने इस केस को दिखाया
और ऑस्ट्रेलिया सरकार की बहुत आलोचना की गयी |
कुल मिला कर बात यह है कि हम लोगों को मुसलमान होने की सजा दी जा रही है |
अब हम लोगों को भी चाहिए कि हम लोग साबित करें कि हम सच्चे और अच्छे मुसलमान हैं |
हम अपने खिलाफ होने वाले षड्यंत्र से एक पढ़े लिखे आदमी की तरह निपट सकते हैं बिलकुल उसी तरह जिस तरह सिख भाईयों ने १९८४ के दंगों के बाद आपने समाज को उपर उठाया है और साथ ही दूसरों का विश्वाश भी जीता है |
१. ऐसे अच्छे और सच्चे मुस्लिम बने कि लोग आप पर आरोप भी न लगा सके ,मतलब आप लोग दुसरे लोगों का विश्वाश जीतें ,जेसे कि सिख भाई यों ने जीता है.
अगर हमारे बीच में कोई गलत आदमी है तो उसको खुद कानून से सजा दिलाएं ,उसका सामाजिक बहिष्कार करें |
२. एक पढ़ा लिखा समाज बनाये ,कोई भी गैर कानूनी काम कभी भी न करें
३.अगर कोई आप पर ज़ुल्म करे तो कानून का पूरा सम्मान करते हुए उससे केस लड़ें ,नाकि कानून अपने हाथ में लें |
४ .अगर मीडिया आपके खिलाफ झूट लिखता है तो आप लोग अपना खुद का मीडिया बनाएं और सच्चाई को सामने लायें |
५.अगर आपके खुद के लोग पुलिस ,सेना ,वकील,जज आदी होंगे तो आपको न्याय और सुरक्षा की भीख दूसरों से नहीं मंगनी होगी |
६.जिन लोगों को आप लोग चुन कर न्याय पालिका ,संसद आदी में भेजते हैं उन लोगों से काम लें ,कि वह लोग आगे आकर समाज के लिए कुछ करें ,समाज को इज्ज़त ,तालीम और सुरक्षा आदी देने में अपना योगदान दें |
७. कुरआन और मुहम्मद साहब की बताई हुई शिक्षाओं पर अमल करें
”’तुम बहतरीन लोग हो जो लोगों को फायदा पहुँचाने के लिए पैदा किये गये हो और अच्छी बातों का हुक्म करते हो और बुरी बातों से रोकते हो “””
८.action speaks louder than words .
सिर्फ कहें नहीं बल्कि करके दिखाएँ कि मुसलमान होने का मतलब इंसानियत ,मुहब्बत ,भाईचारा ,न्याय और सब्र होता है
९.Best religion in World is Islam and worst their followers.
इस्लाम एक बहतरीन धर्म है इसमें किसी को भी कोई शक नहीं है
लेकिन लोग मुसलमानों को शक की नजरों से देखते हैं
क्योंकि इसमें कहीं न कहीं मुसलमान की ही गलती है कि वह अपने रस्ते से भटक गया है |
१०.अपनी गलती को सुधारें
आज हम लोगों में बहुत बड़ी कमी यह होगयी है कि हम लोग खुद को नहीं देखते और दूसरों को ही बुरा कहने लगते हैं | हमे चाहिए कि खुद में सुधार करें दुनिया को बदलने की शुरुआत हमे उस शख्स से करनी चाहिए जो हमे आईने में नजर आता है

कल से लगातार मुझे मीडिया पर गुस्सा आ रहा है, और गुस्सा अभी तक ठंडा नहीं हुआ है । और गुस्‍सा आए क्यों नहीं यह चौथा स्तंभ जो ठहरा, भारत देश का बंबू चार तंबू पर टिका था चौथा गया तेल लेने।

गुस्साये मत ओ मीडिया वाले भय्या … ज़रा गौर से आंख फार कर पढि़ए।गुस्सा तो हमें दिला दिए बिकाऊ मीडिया

देश की आबादी है एक सौ सत्ताईस करोड़। इस सवा सौ करोड़ की आबादी का वर्गीय चरित्र देखिये। अस्सी फीसद आबादी रिहाईश के आधार पर रोजगार के आधार पर खेत और खलिहान से जुड़ी है। बाद बाकी चौदह फीसद श्रम से जुड़ा है और बेकार हैं। सात फीसद कलम तोड़ रहे हैं। मुठी भर सियासत में हैं उतने ही जरायाम पेशे से जुड़ कर ऐश कर रहे हैं। उँगलियों पर गिने जा सकते लोग उद्योग पर काबिज हैं। अब हम आप से ही पूछते हैं यह डिब्बा किसके साथ है ? साथ हो या न हो इसके यहाँ किसकी खबर प्राथमिकता पर बैठने की हकदार बनती है ? देश का प्रतिनिधित्व तो वही करेगा। लेकिन मीडिया उलटा चलता है। यह अस्सी फीसद को या तो परे ढकेल देता है या फिर उसे लूटता है। इसके पीछे का एक वाकया सुन लीजिए।
हमने मीडिया से पूछा था- किस अखबार के पास खेत और खलिहान का ‘ब्यूरो’ है ? किस अखबार के पास इस अस्सी फीसद ज़िन्दगी का ब्योरा रखने वाला विभाग है ? फिर कितने अखबार हैं जो श्रम की दिक्कतों पर नजर रखते हैं ? जवाब नहीं था क्यों कि यह सच है। हर अखबार के पास ‘क्राइम’, नृत्य, संगीत, साहित्य के संवाददाता हैं। राजनीतिक दलों को देखने वालों का कार्य क्षेत्र बँटा है। यहाँ तक कि सिनेमा और शराब व जवानी के बीट हैं जिन्हें पेज नंबर तीन कहते हैं। लेकिन इनके पास खलिहान नहीं है। इनके पास किसान के आत्महत्या की चटख खबर जरूर है क्यों कि वह सियासत का हिस्सा मानी जा चुकी है। तो जनाबे आली ! यह डिब्बा किसका है ? यह डिब्बा उनका है जो उँगलियों पर गिने जाने वाले धन पशु हैं।

अभी इस वक्त को देखिये। जब देश में चुनाव होने जा रहा है दैविक आपदा ने किसान को पीट कर रख दिया। बारिश ने ओले ने किसान की फसल को बर्बाद कर दिया। यह आज के बिकाऊ मीडिया की खबर नहीं है। बिकाऊ की खबर बनती है- “भागो रे ! महँगाई आयी” और महँगाई पर समूचा मीडिया लामबंद हो गया। दिखाया जाने लगा महँगाई। सबूत में उतारा गया- आलू, प्याज, बैगन, मिर्चा। यानी खलिहान का उत्पाद महँगा है। इनसे भी आगे गए प्रिंट मीडिया ‘बॉक्स’ में रंग डाल कर सब्जियों की तस्वीर के साथ उनकी बढ़ी कीमतों का खुलासा। आलू आठ रूपये किलो जो बाजार में आया उसकी कितनी कीमत किसान को मिली होगी ? उसे छोड़ दीजिए। आलू का चिप्स तीन सौ रूपये किलो में बिके, उस पर ऐतराज नहीं है। सड़े चावल से बने कुरकुरे की कीमत चार सौ रूपये के ऊपर क्यों कि उसे रानी मुखर्जी खाती है और डिब्बा दिखाता है। छप्पन किलो लोहे की कीमत अस्सी हजार रूपये। बाजार में बाइक है। मीडिया का पहला पेज बाइक के साथ उघार टाँग दिखा रहा है।

मीडिया ने कभी महँगाई पर गंभीर चर्चा की ? खेत और कारखाने के बीच क्या रिश्ता बने, इस पर किसी राजनीतिक दल से पूछा गया ?
दोस्त हम जम्हूरी निजाम में हैं, हम कसी से नफ़रत नहीं करते। लेकिन इतना तो बनता है।आखिर हमें भी तो अभिव्यक्ति का अधिकार प्राप्त है ।

Editor’s Note: Faizan Tabrazee is a journalist by profession and humanitarian. This article bears views and notions from his own. These views and notions do not bear the views of publication.

Posted by on March 28, 2014. Filed under Nation, Regional. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Both comments and pings are currently closed.